PF kya Hota hai, ब्याज दरें, फायदा, कौन खोल सकता है,

भारत देश में अधिकतर लोगों को यह नहीं पता है कि PF kya Hota hai लेकिन यह आपको भी नहीं पता है तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं PF भारत देश में सेवानिवृत्ति बचत योजना है, यह एक स्वैच्छिक अंशदायी पेंशन योजना है।

यह योजना भारत देश में अधिकतर लोगों को लाभ प्रदान कराने का कार्य करती है, हालांकि इस PF को भारत देश की सरकार के द्वारा पूरी तरह डिजाइन किया गया है और इसे EPFO के द्वारा प्रबंधन किया गया है, इस PF का भारत में मुख्य उद्देश्य यह है कि कर्मचारियों को सही प्रकार से सेवानिवृत्ति का लाभ प्रदान किया जा सके।

भारत देश में नियुक्त कर्मचारी के द्वारा किए गए योगदान को विभिन्न प्रकार की योजनाओं में PF को निवेश किया जाता है, हालांकि इस योजना का प्रबंधन भारत देश में EPFO के द्वारा किया गया है, यह PF खातों के लिए प्रशासनिक सेवाओं को प्रदान कराने का कार्य करती है।


PF kya Hota hai

आज भी भारत देश में बहुत सारे व्यक्तियों को यह नहीं पता है कि PF Hota Kya hai यदि आप भी PF के बारे में बहुत कम जानकारी रखते हैं तो यह लेख आपके लिए है, इस लेख में आपको PF के बारे अधिक जानकारी हासिल होने वाली है, PF का मतलब प्रोविडेंट फंड होता है।

हालांकि अधिकतर लोग PF को रिटायरमेंट सेविंग स्कीम कहते हैं, इसको भारत सरकार के द्वारा रेगुलेट किया जाता है, PF में कर्मचारी और उसके नियोक्ता दोनों ही योगदान करने का कार्य करते हैं, इसको अधिकतर कर्मचारी अपने रिटायरमेंट के लिए बचा कर रखते हैं, और वहीं कुछ कर्मचारी अपना समय पूरा होने पर इसको निकाल लेते हैं।

यह प्रोविडेंट फंड अच्छी और लॉन्ग टर्म स्कीम माना जाता है, अधिकतर कर्मचारी इस स्क्रीन से बहुत ज्यादा खुश रहते हैं, इस स्कीम को भारत देश की सरकार के द्वारा संचालित किया जाता है, और EPFO ( एम्प्लोयी प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन ) के द्वारा प्रबंधित किया गया है।

भारत देश में अधिकतर कर्मचारियों को यह PF स्कीम टैक्स बेनिफिट प्रदान कराने का कार्य करती है, अधिकतर कर्मचारियों का योगदान लगभग 12% EPFO के द्वारा काट लिया जाता है, इस प्रतिशत से भारत देश में सभी नियोक्ता योगदान करते हैं, ताकि भारत देश के सभी कर्मचारी इस स्कीम का फायदा उठा सकें।

PF अकाउंट में भारत के सभी कर्मचारी और नियोक्ता के द्वारा जो पैसा जोड़ा जाता है, वह सभी पैसा इंटरेस्ट के साथ कुछ समय के बाद ही पड़ जाता है, और जब कोई भी कर्मचारी या फिर नियोक्ता निवृत्ति लेते हैं उस समय इस स्कीम से आर्थिक सहायता प्रदान कराई जाती है।


PF अकाउंट कितने प्रकार का होता है|

भारत देश में PF अकाउंट दो प्रकार का होते हैं।

इस अकाउंट के जरिए भारती कर्मचारी अपनी सेवा निवृत्ति के लिए बचत करते हैं, अधिकतर कर्मचारी इस अकाउंट में अपनी मंथली सैलरी का 12% EPFO के माध्यम से फंड करते हैं, और इसी के साथ नियोक्ता भी अपनी सैलरी का 12% योगदान प्रति महीने करते हैं।

यह अकाउंट केवल भारत सरकार ने कर्मचारियों के लिए बनाया है, अधिकतर कर्मचारी इस योजना को अपनी पेंशन के रूप में इस्तेमाल करते हैं,

इस योजना के तहत भारत देश में सभी कर्मचारियों की सैलरी का 8.33 प्रतिशत EPFO के जरिए काट लिया जाता है, हालांकि इसमें नियोक्ता भी अपना कुछ योगदान निभाते हैं।

यह तो आपको पता ही चल गया है कि PF अकाउंट दो प्रकार के होते हैं लेकिन इसके अलावा एक और PF अकाउंट होता है जिसे हम प्रोविडेंट फंड यानी कि (VPF) भी कहते हैं।

Note: आपको इस बात का जरूर ध्यान रखना है कि भारत देश में सभी प्रकार के PF अकाउंट EPFO के द्वारा ही प्रबंधन किए जाते हैं।


PF अकाउंट का इतिहास।

हालांकि भारत देश में पहली बार प्रोविडेंट फंड यानी कि PF की शुरुआत ब्रिटिश राज में हुई थी, भारत देश में इस योजना को पहली बार 1887 में लाया गया था, इस योजना के जरिए सरकारी कर्मचारियों के लिए बचत स्कीम के रूप में इस्तेमाल किया गया था।

इस योजना के तहत सभी भारतीय सरकारी कर्मचारियों की सैलरी में से कुछ प्रतिशत काट लिया जाता था ताकि उनको बाद में आर्थिक सहायता प्रदान की जा सके।

इस योजना को कुछ सालों के बाद यानी कि 1925 में “एंप्लॉय प्रोविडेंट फंड एंड मिसालिनीयस प्रोविजन एक्ट” पास किया गया था, इस एक्ट के जरिए भारत के प्राइवेट कर्मचारियों के लिए भी यह स्कीम अनिवार्य कर दी गई थी।

कुछ सालों के बाद ही 1954 में “एंप्लॉयी डिपॉजिट लिंक्ड इंश्योरेंस पॉलिसी” लॉन्च किया गया था, इस योजना के तहत प्राइवेट फंड होल्डर को इंश्योरेंस स्कीम प्रदान करना शुरू कर दिया गया था, इसके बाद ही सभी भारत के PF अकाउंट होल्डर को लाइफ इंश्योरेंस भी प्रदान करना शुरू कर दिया।

यदि देखा जाए तो आज के समय अधिकतर सरकारी तथा प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों के लिए PF एक बढ़िया स्कीम बन चुकी है अधिकतर कर्मचारी इस योजना के जरिए अपने भविष्य को सुरक्षित रखने का कार्य करते हैं, हालांकि समय-समय पर भारतीय सरकार के द्वारा PF स्कीम में बदलाव देखने को मिलते हैं।


PF अकाउंट कौन कौन खोल सकता है।

PF यानी कि प्रोविडेंट फंड को भारत के कर्मचारियों के लिए पहली बार लाया गया था, आप किसी भी फैक्ट्री, company, गवर्नमेंट डिपार्टमेंट, लोकल बॉडी, बोर्ड, सोसाइटी, पार्टनरशिप फॉर्म, हॉस्पिटल, और रिसर्च इंडस्ट्री इत्यादि कर्मचारी पीएफ अकाउंट बना सकते हैं।

Note: ऑर्गनाइज सेंटर में काम करने वाले सभी कर्मचारियों के अलावा स्वनियोजित कर्मचारी, फ्रीलांसर बिजनेस ऑनर किसान इत्यादि PF अकाउंट अपने मन मुताबिक बनवा सकते हैं, लेकिन कुछ किसान अपना PF अकाउंट खोलने में भरोसा नहीं करते हैं।


PF अकाउंट खोलने के लिए ये एलिजिबिलिटी होनी चाहिए।

यदि आप भारत के नागरिक हैं और आप पहली बार PF अकाउंट खोलना चाहते हैं तो आपके पास यह एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया होनी चाहिए।

PF अकाउंट को लेने के लिए आप देश के नागरिक होने चाहिए।

आपकी उम्र लगभग 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।

हर किसी प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारी का PF अकाउंट खुलवाना अनिवार्य है, लेकिन वही भारती किसान तथा बिजनेसमैन अपना PF अकाउंट खोल सकते हैं।

Read More:

Business Ideas in Pune with Low Investment


PF अकाउंट खोलने के लिए क्या क्या दस्तावेज चाहिए।

यदि आप लंबे समय से यह सोच रहे हैं कि आप भी PF अकाउंट खुलवाना चाहते हैं लेकिन आपको यह नहीं पता है कि इस अकाउंट को खुलवाने के लिए कौन कौन से डॉक्यूमेंट होने चाहिए।

1. PAN Card: आपके पास अपना पैन कार्ड होना चाहिए।

2. Aadhaar Card: आपके पास अपना एक आधार कार्ड भी होना चाहिए।

3. Bank Account Details: आपका बैंक अकाउंट जरूर होना चाहिए।

4. Passport Size Photo Copy: आपको अपने पासपोर्ट साइज कुछ फोटो की जरूरत होगी।

7. UAN Number: PF अकाउंट खुलवाने के लिए आपको UAN Number होना चाहिए।


PF अकाउंट के जरिए कितने प्रतिशत ब्याज मिलती है।

सन 2011 और 12 में EPFO के जरिए यह घोषणा की गई थी कि जिन व्यक्तियों का PF अकाउंट में 3 साल का योगदान नहीं दिया गया है उन कर्मचारियों को योगदान ब्याज के सहित दिया जाएगा।

हालांकि कुछ सालों के बाद भी सन 2016 में इस बिल को वापस ले लिया गया था और जिन व्यक्तियों के 3 साल से PF अकाउंट में पैसे डाले हुए हैं वह उनको बिना ब्याज के ही दिए जाएंगे।

लेकिन साल 2021 और 22 में जिन कर्मचारियों के लंबे समय से पैसे PF अकाउंट में डाले हुए हैं उनको 8.10% ब्याज मिलने वाली है लेकिन कर्मचारी की आयु 58 वर्ष होनी चाहिए।


PF अकाउंट किस प्रकार से खोला जाता है।

यदि आप लंबे समय से किसी कंपनी में काम कर रहे हैं लेकिन आपका अभी तक PF अकाउंट नहीं खुला है तो यह आपके लिए सही नहीं है आपको अपना PF अकाउंट जरूर खुलवा लेना चाहिए जहां आप नौकरी कर रहे हैं वह व्यक्ति आपका PF अकाउंट खोल सकता है।

लेकिन यदि आप खुद ही अपना PF अकाउंट खोलना चाहते हैं तो आप आसानी के साथ खोल सकते हैं उसके लिए आपको ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों ही माध्यम दिए गए हैं।

हालांकि भारत देश में लगभग हर फाइनेंसियल इंस्टीट्यूट PF अकाउंट खोलने की सुविधा प्रदान कराने का कार्य करता है, आप आसानी के साथ अपनी नजदीकी बैंक में जाकर या फिर पोस्ट ऑफिस में जाकर अपना PF अकाउंट खुलवा सकते हैं।

लेकिन यदि आप किसी बैंक में जाकर ऑनलाइन PF अकाउंट खुलवाना चाहते हैं तो आपको उसके ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा जहां PF अकाउंट खोलने का ऑप्शन दिया जाता है।

Passionate entrepreneur sharing insights and inspiration for turning business ideas into successful ventures. Let's build together!